Round Table Discussion on 'Reforms in Agriculture Sector through Modern Technology & Innovations' on Saturday 10th November 2018, at 5:00 PM, SPMRF Conference Room, 9, Ashoka Road, New Delhi- 110001

Salient Points of PM’s address at the commemoration of 75th anniversary of ‘Azad Hind Fauj’ at the Red Fort

आज 21 अक्‍तूबर का ऐतिहासिक दिन, लाल किले पर ध्‍वजारोहनका ये अवसर, आप कल्‍पना कर सकते हैं कि मैं कितना अपने-आपको सौभाग्‍य मानता हूं? ये वही लाल किला है, जहां पर victory parade का सपना नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने 75 वर्ष पूर्व देखा था। आजाद हिंद सरकार के पहले प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेते हुए नेताजी ने ऐलान किया था कि इसी लाल किले पर एक दिन पूरी शान से तिरंगा लहराया जाएगा।आजाद हिंद सरकार अखंड भारत की सरकार थी, अविभाजित भारत की सरकार थी। मैं देशवासियों को आजाद हिंद सरकार के 75 वर्ष होने पर बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

साथियो, अपने लक्ष्‍य के प्रति जिस व्‍यक्ति का इतना साफ vision था। लक्ष्‍य को हासिल करने के लिए जो अपना सब कुछ दांव पर लगाने के लिए निकल गया हो, जो सिर्फ और सिर्फ देश के लिए समर्पित हो; ऐसे व्‍यक्ति को याद करने भर से ही पीढ़ी दर पीढ़ी प्रेरित हो जाती है।

 

आज मैं नमन करता हूं उन माता-पिता को, जिन्‍होंने नेताजी जैसा सपूत इस देश को दिया। जिन्‍होंने राष्‍ट्र के लिए बलिदान देने वाले वीर-वीरांगनाओं को जन्‍म दिया। मैं नतमस्‍तक हूं उन सैनिकों और उनके परिवारों के आगे जिन्‍होंने स्‍वतंत्रता की लड़ाई में सर्वस्‍व न्‍यौछावर कर दिया। मैं पूरे विश्‍व में फैले उन भारतवासियों को भी स्‍मरण करता हूं जिन्‍होंने नेताजी के इस मिशन को तन-मन-धन से सहयोग किया था और स्‍वतंत्र, समृद्ध, सशक्‍त भारत बनाने में अपना बहुमूल्‍य योगदान दिया था।

 

साथियो, आजाद हिंद सरकार, ये आजाद हिंद सरकार, ये सिर्फ नाम नहीं था बल्कि नेताजी के नेतृत्‍व में इस सरकार द्वारा हर क्षेत्र से जुड़ी योजनाएं बनाई गई थीं। इस सरकार का अपना बैंक था, अपनी मुद्रा थी, अपना डाक टिकट था, अपना गुप्‍तचर तंत्र था। देश के बाहर रहकर, सीमित संसाधनों के साथ, शक्तिशाली साम्राज्‍य के खिलाफ इतना व्‍यापक तंत्र विकसित करना, सशक्‍त क्रांति, अभूतपूर्व, मैं समझता हूं ये असाधारण कार्य था।

 

नेताजी ने एक ऐसी सरकार के विरुद्ध लोगों को एकजुट किया, जिसका सूरज कभी अस्‍त नहीं होता था, दुनिया के एक बड़े हिस्‍से में जिसका शासन था। अगर नेताजी की खुद की लेखनी पढ़ें तो हमें ज्ञात होता है कि वीरता के शीर्ष पर पहुंचने की नींव कैसे उनके बचपन में ही पड़ गई‍ थी।

 

वर्ष 1912 के आसपास, आज से 106 साल पहले, उन्‍होंने अपनी मां को जो चिट्टी लिखी थी, वो एक चिट्ठी इस बात की गवाह है कि सुभाष बाबू के मन में गुलाम भारत की स्थिति को लेकर कितनी वेदना थी, कितनी बेचैनी थी, कितना दर्द था।ध्‍यान रखिएगा, वो उस समय सिर्फ 15-16 की उम्र के थे।

 

सैंकड़ों वर्षों की गुलामी ने देश का जो हाल कर दिया था, उसकी पीड़ा उन्‍होंने अपनी मां से पत्र के द्वारा साझा की थी। उन्‍होंने अपनी मां से पत्र में सवाल पूछा था कि मां क्‍या हमारा देश दिनों-दिन और अधिक पतन में गिरता जाएगा? क्‍या ये दुखिया भारतमाता का कोई एक भी पुत्र ऐसा नहीं है जो पूरी तरह अपने स्‍वार्थ को तिलांजलि देकर, अपना संपूर्ण जीवन भारत मां की सेवा में समर्पित कर दे? बोलो मां, हम कब तक सोते रहेंगे? 15-16 की उम्र के सुभाष बाबू ने मां को ये सवाल पूछा था।

 

भाइयो और बहनों, इस पत्र में उन्‍होंने मां से पूछे गए सवालों का उत्‍तर भी दे दिया था। उन्‍होंने अपनी मां को स्‍पष्‍ट कर दिया था कि अब, अब और प्रतीक्षा नहीं की जा सकती, अब और सोने का समय नहीं है, हमको अपनी जड़ता से जागना ही होगा, आलस्‍य त्‍यागना ही होगा और कर्म में जुट जाना होगा। ये सुभाष बाबू, 15-16 साल के! अपने भीतर की इस तीव्र उत्‍कंठा ने किशोर सुभाष बाबू को नेताजी सुभाष बना दिया।

 

नेताजी का एक ही उद्देश्‍य था, एक ही मिशन था- भारत की आजादी। मां भारत को गुलामी की जंजीरों से मुक्‍त कराना। यही उनकी विचारधारा थी और यही उनका कर्मक्षेत्र था।

 

साथियो, सुभाष बाबू को अपने जीवन का लक्ष्‍य तय करने, अपने अस्तित्‍व को समर्पित करने का मंत्र स्‍वामी विवेकानंद और उनकी शिक्षाओं से मिला-

 

आत्‍मनोमोक्षार्दम जगत हिताय च– यानि जगत की सेवा से ही मुक्ति का मार्ग खुलता है। उनके चिंतन का मुख्‍य आधार था- जगत की सेवा। अपने भारत की सेवा के इसी भाव की वजह से वो हर यातना सहते गए, हर चुनौती को पार करते गए, हर साजिश को नाकाम करते गए।

Leave a Reply